कृष्णा…

गीत जैसी तेरी वाणी
या तेरी वाणी ही है गीत |
तू जो हो पास मेरे
जीवन बन जाए मधुर संगीत ||
निरंकार में आकार तू
मन की भुजाये प्यास तू;
तुझमे समाई है संसार पुरी
तू ही मित्र तू ही गुरु |
प्रेम है तेरा दूसरा नाम
मित्रता की है तू मिसाल;
रुतुओ में जो रंग बरे
शास्त्रो का है दाल तू |
निशास्त्र तू उतरे मैदान में
तेरे आगे शास्त्र भी बलवान नहीं,
तुही बुद्धि तुही वृधि
जिसके साथ हो तू हो उसकी कभी कोई हार नहीं |
ज्ञानो का मेल तू
ब्रह्माण्ड का अधिकारी |
मन के अंदर का आवाज तू
युगान्तर भी कह लाये तुही ||
- Aishwarya R

© All rights reserved. All rights are reserved©raghaash blog 2017/inkwordsandspells.



Repost with Credits

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s